जीवन व समाज की विद्रुपताओं, विडंबनाओं और विरोधाभासों पर तीखी नजर । यही तीखी नजर हास्य-व्यंग्य रचनाओं के रूप में परिणत हो जाती है । यथा नाम तथा काम की कोशिश की गई है । ये रचनाएं गुदगुदाएंगी भी और मर्म पर चोट कर बहुत कुछ सोचने के लिए विवश भी करेंगी ।

मंगलवार, 12 जुलाई 2016

कहीं नासा का बैंड न बज जाए !

           
   उत्तम प्रदेश और उसके पड़ोसी राज्य पाटलीपुत्र में जश्न का सिलसिला जारी है । होना भी चाहिए । लोग दूसरे राज्यों को टेलीस्कोप लेकर दौड़ लगाते हैं रोजगार की तलाश में । ऐसा नहीं है कि इनके अपने राज्यों में रोजगार की व्यवस्था नहीं है । उत्तम व्यवस्था है और इनकी उत्तमता के दर्शन आप नियमित सरकारी विज्ञापनों में कर सकते हैं । उत्तमता को कोई आँच न आए, इसके लिए ये जिधर देखिए उधर रेस लगाए रहते हैं । सूरत, लुधियाना, दिल्ली, मुम्बई को जाने वाली ट्रेनें इसका गवाह बनती हैं । ट्रेन अपने अंतिम स्टेशन पर पहुँच कर रुक न जाए और इनसे हाथ जोड़कर माफी न मांग ले, तब तक ये उसकी जान नहीं छोड़ते । ऐसे में अमेरिका से अगर रोजगार की खुशखबरी शटल यान पर चढ़कर इनके आँगन में उतरे, तो जश्न तो बनता ही है ।
   दरअसल नासा मंगल पर मानव बस्ती बसाने की योजना को अंतिम रूप देने वाला है । वहाँ वह शिक्षकों को भी ले जाना चाहता है । यही वह खबर है जो यहाँ के लोगों को जश्न के जलाशय में डूबने के लिए प्रेरित कर रही है । दुनिया का कोई भी व्यक्ति शिक्षक बनने की मंडी में इनका मुकाबला नहीं कर सकता । शिक्षक बनना सबके वश की बात भी नहीं होती । लोग समझते हैं कि इसके लिए पढ़ा-लिखा होना जरूरी होता है । योग्य व्यक्ति ही शिक्षक बन सकता है । अब अगर पढ़ा-लिखा आदमी शिक्षक बन गया, तो इसमें योग्यता वाली कौन सी बात हुई? योग्यता तो तब दिखाई देती है, जब कम पढ़ा-लिखा या न पढ़ा-लिखा आदमी शिक्षक बने । एक अयोग्य जब शिक्षक बन रहा होता है, तो वह अपनी योग्यता ही प्रदर्शित कर रहा होता है । सौभाग्य की बात है कि इन राज्यों में ऐसे ही लोग शिक्षक बनाए जाते हैं ।
   जाहिर सी बात है कि मंगल ग्रह को जाने वाले रास्ते में वही लोग दिखाई देंगे, जिनमें प्रतिभा कूट-कूट कर भरी होगी । इन राज्यों के अधिकांश वर्तमान एवं भावी शिक्षकों को पार पाना किसी के लिए भी समंदर को तैर कर पार करने के समान होगा । किसी और जगह के शिक्षकों के पास, हो सकता है, एकाध प्रतिभाएं हों, पर यहाँ के शिक्षक तो प्रतिभाओं की खान हैं । अब प्रतिभा है, तो उसे छिपाना गैर-न्यायसंगत है । प्रतिभा की ढोल तो बजती रहनी चाहिए ।
   अयोग्य शिक्षक में सबसे बड़ी प्रतिभा यह होती है कि वह अपने पोषक सरकार के प्रति उसी तरह स्वामीभक्त होता है, जैसे कुत्ता अपने पोषक स्वामी के प्रति । कुत्ते के स्तर को छूना आसान नहीं होता । वह पक्का योगाचार्य होता है । जिस तरह सूर्य के सामने सूर्य-नमस्कार किया जाता है, उसी तरह यह अफसर-नमस्कार करता है । पूँछ-मूवमेंटासन इसके द्वारा किया जाने वाला सर्वकालिक आसन है । अन्य लाभों के साथ संकट के बादल छँटने का महालाभ होता है इस आसन से ।
   यह बिल्डर भी है । तमाम ठेके इसकी झोली में अनायास गिरते रहते हैं । मंगल पर तो अभी खाली-का-खाली मैदान है । वहाँ रहने के लिए बिल्डिंग तो चाहिए ही चाहिए । यह हलवाई भी है । इज्जत देने का मूड हो, तो आप इसे कैटरर भी कह सकते हैं । यह खाना बनाने से लेकर खाना खिलाने, बर्तन मांजने व जूठन की साफ-सफाई का उस्ताद है । गाय-भैंसों की गिनती करना, राजनीति करना, चुनाव की बैलगाड़ी हांकना, बच्चों को टीका पिलाकर समाजसेवा करना...अनगिनत प्रतिभाएं छिपी हैं इसके अंदर । इन सब चीजों की मंगल ग्रह पर जरूरत होगी ।
   शिक्षक...माने जिसे पढ़ना-पढ़ाना आता हो, वह किस खेत की मूली खाकर इन शिक्षकों का मुकाबला करेगा ! प्रतिभाओं की संपदा के मामले में कहाँ गंगू तेली और कहाँ राजा भोज ! इन सब चीजों से एक बात तो एकदम स्पष्ट है कि जिस दिन मंगल के लिए चयन शुरु होगा, यहाँ बस मंगल ही मंगल होगा ।

   यहाँ के जश्न की खबर के बाद नासा अलर्ट-मोड में आ गया है । उसके सामने सबसे बड़ी समस्या शिक्षक को परिभाषित करने की है । जिन लोगों ने यहाँ कबाड़ा कर रखा है, वे वहाँ पर क्या करेंगे । इनकी जुगाड़ की प्रतिभा इनके मंगल पर पहुँचने की संभावना के द्वार खोलती है । नासा ने अभी से इस संभावना को नष्ट करने के लिए एक विकट जंतुनाशी पर अनुसंधान शुरु कर दिया है । अगर ऐसा नहीं हुआ, तो नासा का लासा निकलने से ( मिट्टी पलीद होने से ) कोई नहीं रोक सकता । अब देखना है कि जश्न मनाने वाले नासा का बैंड बजा पाते हैं या नहीं ।

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 'जाने-अनजाने आतंकवाद का समर्थन - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लोकप्रिय पोस्ट