जीवन व समाज की विद्रुपताओं, विडंबनाओं और विरोधाभासों पर तीखी नजर । यही तीखी नजर हास्य-व्यंग्य रचनाओं के रूप में परिणत हो जाती है । यथा नाम तथा काम की कोशिश की गई है । ये रचनाएं गुदगुदाएंगी भी और मर्म पर चोट कर बहुत कुछ सोचने के लिए विवश भी करेंगी ।

शनिवार, 1 जुलाई 2017

उसको टॉपर ही बनना है

साभार-hazrat-ji-md-shakeel-bin-hanif

एक गधा जिद कर बैठा


जीवन में कुछ करना है,


जो भी हो, उपाय करो


उसको टॉपर ही बनना है ।


                                    मैंने उसको लाख मनाया


                                   बाप बन उसको समझाया,


                                   वह कानों पर हाथ रख बोला


                                   उसको टॉपर ही बनना है ।



साभार-indiatimes.com

बेटा देख कठिन डगर है


लाखों इसमें अगर-मगर है,


अगर है ऐसा, तो फिर पक्का


उसको टॉपर ही बनना है ।


                                 पुस्तक का तो बड़ा महत्व है


                                 इंटरनेट भी नया तत्व है,


                                 हाथों में मोबाइल लेकर


                                उसको टॉपर ही बनना है ।



साभार-indiatimes.com

दिन भर मेहनत का अफसाना


रातों को भी चैन न पाना,


भले आँख में रात कटे


उसको टॉपर ही बनना है ।


                               नहीं गधों का पढ़ना काम


                               समझो फिर शिक्षा तमाम,


                               शिक्षा से क्या लेना-देना


                               उसको टॉपर ही बनना है ।

साभार-bhootworld.com

मैंने पूछा-टॉपर देखा है


झट वह बोला-पूरा लेखा है,


नहीं कभी वे फेल हुए


उसको टॉपर ही बनना है ।


                             तू नहीं समझता तिकड़म सारी


                             गधों को मिलती अक्सर गारी,


                             यही नियति है, हरदम देखा


                             उसको टॉपर ही बनना है ।


मैंने कहा-तू जेल जाएगा

साभार-amarujala.com

वापस कभी न घर आएगा,


ऐसे जेलों की ढेंचू-ढेंचू


उसको टॉपर ही बनना है ।


                              तब गधे को गुस्सा आया


                             रौद्र अपना वह रूप दिखाया,


                             जल मरें चाहे जलने वाले


                             उसको टॉपर ही बनना है ।

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना  "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 12जुलाई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!




    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर व्यंग...
    वाह!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ! बिल्कुल सटीक व्यंग्य ! बहुत खूब आदरणीय ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सटीक व्यंग। शिक्षा -प्रणाली का हाल बदहाल है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सटीक व्यंग। शिक्षा -प्रणाली का हाल बदहाल है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूर के ढोल सुहावने ! जब टॉपर बनने की असलियत सामने आती है तब पता चलता है !खैर, सपने देखने में क्या हर्ज ? बहुत सटीक व्यंग्य आज की शिक्षा प्रणाली पर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुभ प्रभात....
    तू नहीं समझता तिकड़म सारी
    गधों को मिलती अक्सर गारी,
    यही नियति है, हरदम देखा
    उसको टॉपर ही बनना है ।
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लोकप्रिय पोस्ट