जीवन व समाज की विद्रुपताओं, विडंबनाओं और विरोधाभासों पर तीखी नजर । यही तीखी नजर हास्य-व्यंग्य रचनाओं के रूप में परिणत हो जाती है । यथा नाम तथा काम की कोशिश की गई है । ये रचनाएं गुदगुदाएंगी भी और मर्म पर चोट कर बहुत कुछ सोचने के लिए विवश भी करेंगी ।

शनिवार, 13 अगस्त 2016

जो डराए, वह आजादी तो नहीं

              
   यकीन नहीं था कि गली के नुक्कड़ पर पहुँचते ही मुझे नुक्कड़-नाटक के दर्शन साक्षात होने लगेंगे । सौभाग्य इतना होगा कि मुझे भी उस नुक्कड़-नाटक में शामिल कर लिया जाएगा । हुआ यह कि नुक्कड़ पर पहुँचते ही मेरी साइकिल को किसी ने ठोंक दिया । ठुँकना अच्छा नहीं लगता, पर वहाँ यह देखकर अच्छा लगा कि चलो, साइकिल या रिक्शा से तो नहीं ठुँके । वो क्या है कि हीनता महसूस होती है । ठुँके भी, तो साइकिल से...रिक्शा से । सामने एक ही बाइक पर चार नौजवान सवार थे । शायद यह कहना अब सही नहीं था, क्योंकि बाइक तो मुँह के बल गिरी जमीन सूँघ रही थी । चारों नौजवान चारों खाने चित्त पड़े हुए थे । मैं उन पर हँसने की स्थिति में नहीं था । जो गति तोरी, सो गति मोरी । पर एक बात जरूर था । मैं धूल झाड़कर उनसे पहले उठ खड़ा हुआ था । मेरा जीवन-अनुभव उस वक्त मेरे काम आया था । ऐसे मौकों पर बिजली की गति से उठ जाना ही फायदेमन्द होता है, वरना आपके ऊपर हँसी के पटाखे फूटते देर नहीं लगती ।
   जिस नुक्कड़-नाटक की भूमिका बँध गई थी, उसका आनन्द लेने के लिए बीसियों लोग इकट्ठा हो गए थे । गम कम, हँसी के ज्यादा छींटे पड़ते ही नौजवान अपने आपे से बाहर हो गए । पर तुरंत ही उन्हें अपनी गलती का अहसास-जैसा हुआ । इस मौके का फायदा उठाते हुए मैंने उन पर हमला बोल दिया । ‘देख कर नहीं चल सकते क्या.. मेरी टांग टूट जाती तो?’
   ‘ओए अंकल, ज्यादा नहीं टर्राने का । अपनी टांग खुद बचाने का । हमें अपने फ्रीडम से समझौता नहीं करने का । समझ गए या समझाने का?’
   मुझे समझते देर नहीं लगी कि उनकी भी आजादी है । मैं अपनी साइकिल को समेटने लगा । अब वह मुझे नहीं, बल्कि मैं उसे खींच रहा था । घर पर आकर अभी घुटनों पर हल्दी-चूने का लेप लगा ही रहा था कि बाहर दरवाजे पर दस्तक होने लगी । बिना लेप के लगाए जाना मुझे अच्छा नहीं लगा । वैसे भी वह दस्तक मेरी आजादी पर सवाल बनकर उत्पन्न हुआ था । मैं अपनी आजादी के गुमान में लेप लगाता रहा । उधर आगन्तुक को भी अपनी आजादी का मुझसे अधिक गुमान था । वह तबले की थाप-सा दस्तक देता रहा । आजादी के बीच कर्त्तव्य का भान मुझे तब हुआ, जब लगा कि अब दरवाजा नहीं बचने वाला । मैंने लपकते हुए दरवाजा खोल दिय़ा । सामने पड़ोसी खड़ा था । उसने मुझे हिंसक निगाहों से घूरा । गोया पूछ रहा हो कि किस कब्र में दफन पड़े थे अब तक । फिर प्रकटतः पूछा, ‘आजादी का जश्न मनाना है शर्मा जी, बोलिए कितना दे रहे हैं?’ मेरे बोलने से पहले ही वह फिर बोला, ‘नहीं-नहीं, चिरकुटई नहीं चलेगी इस बार । पूरे दो हजार ढीले करने होंगे ।’
   मैं दो सौ तक अपनी मर्जी से देने वाला था, किन्तु आजादी के नाम पर नाक-कटाई का दबाव बनाकर दो हजार हड़प ले गया । वह हँसते हुए निकल गया और मैं मन ममोस कर हल्दी-चूने के लेप को खा जाने वाली निगाह से घूरने लगा ।
   अभी आजादी के उधेड़-बुन से ठीक से बाहर भी नहीं निकला था कि पड़ोस में हंगामा मच गया । घर से बाहर आते ही रोंगटे खड़े हो गए । पड़ोसन अपनी आजादी का खुल्लम-खुल्ला प्रदर्शन कर रही थी । वह दौड़ा-दौड़ाकर अपने पति की ठुकाई कर रही थी । पति ने अपनी आजादी के बेजा इस्तेमाल की चेष्टा की थी । वह इस वक्त दौड़-दौड़कर अपनी प्राण-रक्षा के कर्त्तव्य-निर्वहन में संलग्न था । ठीक इसी समय मुझे उन लोगों की याद आई, जो स्त्री की आजादी के लिए अक्सर विलाप करते रहते हैं । यह दृश्य उन्हें निश्चय ही राहत प्रदान करेगा । आजादी अब बहुत दूर की बात नहीं रही ।
   वापस घर में घुसते ही एक और कोहराम का सामना हुआ । कहना गलत न होगा कि एक बार फिर आजादी से मुठभेड़ हुई । दृश्य कुछ यूँ था-पत्नी रोए जा रही थी । पुत्रवधु भुनभुना रही थी और पुत्र मौन की मूर्ति बन खड़ा था । पत्नी आजादी का पूर्ण उपभोग करना चाहती थी । यह तभी सम्भव था, जब पुत्रवधु इसी घर में रहकर चौका-चूल्हा करे । पुत्रवधु आजादी की नई हवा में साँस लेना चाहती थी, जो उसके अनुसार अलग घर में रहकर ही सम्भव था । उधर पुत्र का मौन इन आजादियों से निपटने का रास्ता तलाश रहा था ।

   बिना कुछ बोले मैं अपने कमरे में चला आया । मैं आजादी के साथ विचार करना चाहता था हर उस आजादी पर, जिसका सामना हमें सुबह से लेकर रात तक करना पड़ता है । क्या आजादी के पीछे आतंक की ही अभिव्यक्ति होती है? जब आजादी किसी गली के नुक्कड़ पर खड़ी होकर अट्टहास करने लगे, तो क्या उसे आजादी ही कहेंगे?

2 टिप्‍पणियां:

  1. आजादी
    आजादी
    और फिर
    आजादी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 14 अगस्त 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लोकप्रिय पोस्ट