जीवन व समाज की विद्रुपताओं, विडंबनाओं और विरोधाभासों पर तीखी नजर । यही तीखी नजर हास्य-व्यंग्य रचनाओं के रूप में परिणत हो जाती है । यथा नाम तथा काम की कोशिश की गई है । ये रचनाएं गुदगुदाएंगी भी और मर्म पर चोट कर बहुत कुछ सोचने के लिए विवश भी करेंगी ।

गुरुवार, 1 जून 2017

रात अभी बाकी है ( भाग-5 )


आँखों में है स्याही कैसी


कैसी मदिरा और साकी है,


अभी सांझ होने वाली है


पूरी रात अभी बाकी है ।


                                    आँखों में जादू उतरा है


                                    तन जैसे मय का प्याला,

                                    

                                     कितनी अब तक पी चुके


                                     यह खिंची हुई हाला ।


सच बतलाओ-कैसी मदिरा है


किस धरती पर खिंची हुई,


अब तक जो भी देखी मैंने


केवल मयखानों में सजी हुई ।


                                     पर जग को मरते देखा है


                                     तुममे तेज कहाँ से आया,


                                     एक अग्नि जलाती जग को


                                     दूजी आग कहाँ से पाया ।

    
                                                           जारी...

6 टिप्‍पणियां:


  1. बहुत बढ़िया लिखा है
    एक नज़र मेरे पोस्ट्स पर भी डालिएगा उम्मीद है आपको पसंद आएँगी
    merealfaaz18.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया । जरूर आपके पोस्ट को भी देखेंगे ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आपको पसंद आया, यह जानकर अच्छा लगा । धन्यवाद...

      हटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लोकप्रिय पोस्ट